Munshi Premchand: प्रेमचन्द का भारत-बोध: गिरीश्वर मिश्र

~~जन्म जयंती पर विशेष~~ Munshi Premchand: बनारस के लमही गाँव में पैदा हुए , पले बढे धनपत राय का लेखक प्रेमचंद में रूपांतरण भारतीय साहित्य जगत की एक विशिष्ट उपलब्धि … Read More

Guru Purnima: संत कबीर दास का गुरु -स्मरण

Guru Purnima: निर्गुण संत परम्परा के काव्य में गुरु की महिमा पर विशेष ध्यान दिया गया है और शिष्य या साधक के उन्नयन में उसकी भूमिका को बड़े आदर से … Read More

In-laws: ससुराल में “इन-लोज़” से जुडी समस्याओं को कैसे संभालें

In-laws: जब आप शादी करते हैं, तो न केवल एक-दूजे के साथ बल्कि एक-दूसरे के परिवार के साथ भी घनिष्ठ रूप से जुड़ते हैं, जिसके लिये, नए जीवनसाथी के साथ-साथ, … Read More

Hardik Patel: गुजरात में जातिगत राजनीति का हावी होना, गुजरात एवं लोकतंत्र के लिए अच्छा संकेत नहीं: हार्दिक पटेल

चुनाव के समय में टिकट का आधार योग्यता ना होकर जाति हो जाता हैं। मुझसे बहुत से लोग कहते हैं कि गुजरात का मुख्यमंत्री पाटीदार समाज से होना चाहिए। मेरा … Read More

Annapurna: भूख केवल “पेट” में नहीं होती आँखों में भी होती हैं….!

Annapurna: भूख केवल पेट में नहीं होती आँखों में भी होती हैं….!मेरी आँखों में एक बेहतर इंसान बनने की भूख…..,ठीक मेरे सामने एक बच्ची जो महज सात साल की होंगी … Read More

“ शिक्षा (education) का एक दीपक ”: ममता कुशवाहा

परंतु आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है और आगे जैसे- जैसे समय परिवर्तन हुआ वैसे- वैसे आवश्यकता अनूसार लोग अविष्कार कर अपने अंधेरे दूनिया को प्रकाशमयी करने लगे और इस … Read More

IIT Roorkee: आई आई टी रुड़की की पी एच डी स्कॉलर शीतल यादव ने “लोकडाउन में महिलाओं” पर रिसर्च में क्या पाया, जानिए इस रिपोर्ट में…

नई दिल्‍ली, 20 जून: IIT Roorkee: कोरोना वायरस ने भारत सहित पूरी दुनिया को बदल दिया है, लेकिन दुर्भाग्य से इससे हमारी सांप्रदायिक, नस्लीय, जातिवादी और महिला विरोधी सोच और … Read More

Corona epidemic: कोरोना की भयावह स्थिति में “जान है तो जहान है” यह बात सबसे अधिक महत्वपूर्ण मानी गयी: ममता कुशवाहा

Corona epidemic: वेक्सीन लेने की व्यवस्था हुई है परंतु अभी पर्याप्त मात्रा में वेक्सीन की उपलब्ध नहीं है और लोगों में जागरूकता की आवश्यकता है कुछ लोग तो डर कर … Read More

Munshi Premchand: गबन और मुंशी प्रेमचंद जी की प्रासंगिकता

Munshi Premchand: प्रेम के विषय पर उनके विचार बिल्कुल स्पष्ट थे-  “•••विलास पर प्रेम का निर्माण करने की चेष्टा करना उसका अज्ञान था। Munshi Premchand: गबन उपन्यास प्रेमचंद जी की … Read More

Copyright © 2021 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.