पर्यावरण के प्रति हम कितने संवेदनशील ?

काव्य आकाश के फेफड़ो में धुंआ भरती चिमनियाधरती के आँचल को अनवरत सोखते ट्यूबवेल।1। नदियों को…

मां बाप के बुढापे की लाठी…..

नन्ही सी हथेली मेंमुट्ठी भर सपने लिएहम भी आगे बढ़ेंगे पढ़ लिख कर केलिखेंगे हमारे अरमानभरेंगे…

गुलशन जहाँ सभी के लिए हो

काव्य कंटीले नुकीलेकांटेदार केक्टस ही केक्टसहै चहुँ ओर। खरपतवार ने कर लिया हैकब्जा पूरे बगीचे पर।लहूलुहान…

बाल श्रम में लिप्त किए जा रहे बच्चों की ज़बानी

काव्य मेरे भी कई ख़्वाब थे,हम भी किसी घर के आफ़ताब थे,बिना घी के सही हमारी…

हम इकट्ठा कर लें चाहे जितने दौलत के पहाड़….

काव्य हम इकट्ठा कर लें चाहे जितने दौलत के पहाड़।सामने रहते हैं फिर भी कुछ ज़रूरत…

काम आती है हमारे उम्र भर ” मिट्टी “

काम आती है हमारे उम्र भर मिट्टी।कह दिया बेकार चीज़ों को मगर मिट्टी। बीज पौधा बन…

बनाते चलो मित्र…बनाते चलो मित्र..!

मित्र!मित्र …इस दुनिया में सबसे विचित्र,इनसे ना छुपे मन का कोई भी चित्र ।१। ना गुण…

वो निगाहें जो तरस गई थी प्यार को

बहन की ताकत बीवी का प्यार, पिता की शान, बच्चों का दुलार काफी था,लेकिन एक नशा…

“है नमन तुझको ऐ भारत माता” भारतीय सेना के वीर सपूतों को समर्पित

काव्यांजलि.. है नमन तुझको ऐ भारत माता, है नमन तुझको ऐ भारत माता, हे भारत भाग्य…

था कभी यह आर्यवर्त.. था कभी यह आर्यवर्त..

था कभी यह आर्यवर्त..था कभी यह आर्यवर्त..श्री राम-कृष्ण-शंकराचार्य और विवेकानंद सबने यहीं जाना धर्म का मर्म।सप्त…

error: Content is protected !!