Banner DKA 600x337 1

father’s day: जो बचपन से ही बच्चों की खुशी के लिए अपनी….

!! पिता !!(father’s day)

Rajesh rajawat
राजेश राजावत “ओजस”

father’s day: जो बचपन से ही बच्चों
की खुशी के लिए अपनी
ख्वाईशें मार देता है
वो पिता होता है

आवारगी की
जिंदगी छोड़कर
जल्द ही जिम्मेदारियों
की चादर ओढ़ लेता है
वो पिता होता है

नौ महीने मुश्किल के
गर्भ में संभाल लेती है मां
पर ताउम्र जो तुम्हें
दिमाग में ढोता है
वो पिता होता है

Advertisement

उंगली पकड़ कर
चलना सिखाती है मां
पर कंधे पर बिठा कर
जो आसमान दिखाता है
वो पिता होता है

हां सच है सीने से लगाकर
सुला देती है मां
पर पीठ पर बिठाकर
जो मीलों की
दूरी तय करवाता है
वो पिता होता है

तुम्हें महंगे-महंगे वस्त्र
दिलाकर खुद फटी
बनियान टूटी चप्पल में
गुजर कर लेता है
वो पिता होता है

Advertisement

खुद रूखी सूखी खाकर
तुम्हें स्कूल कॉलेज पहुंचाकर
तुम्हारा भविष्य सुनिश्चित
करता है
वो पिता होता है

बीमार अगर हो जाए
तो घबराती है मां मगर
जो अंदर से लड़खड़ाता है
वो पिता होता है

लाड-प्यार
इज्जत-शोहरत
सिखा देती है मां
पर असल जिंदगी
और संस्कार जो सिखाता है
वो पिता होता है

Advertisement

बापू तेरी मूछा दी मैं शान नही जाने दूंगा
सर कटबा दूंगा पर ईमान नहीं जाने दूंगा
Love you Dad ❤️😘

यह भी पढ़ें:Ek safar part-3: एक सफर एहसासों का

Hindi banner 02
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Advertisement
Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.