दिल्ली सरकार के काॅलेजों में बढ़ी 1330 सीटें : सिसोदिया

Manish sisodia 2810


रिपोर्ट: महेश मौर्य, दिल्ली

नई दिल्ली, 28 अक्तूबर 2020 : उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली में उच्च शिक्षा के अवसर बढ़ने पर दिल्ली वासियों को बधाई दी है। उन्होंने कहा है कि दिल्ली सरकार द्वारा संचालित आइपी यूनिवर्सिटी से जुड़े काॅलेजों में इस वर्ष से 1330 नई सीटें जोड़ी गई हैं। यह पांच-छह नए काॅलेज खोलने के बराबर है। इससे दिल्ली के स्कूलों से पढ़कर निकले उन स्टूडेंट्स को लाभ होगा जिन्हें उच्च शिक्षा के बेहतर अवसरों की तलाश है। 

whatsapp banner 1


श्री सिसोदिया ने आज डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जो बच्चे स्कूल पास करके अच्छे काॅलेजों में एडमिशन कराना चाहते हैं, उनके लिए अच्छी खबर है। दिल्ली सरकार के उच्च शिक्षण संस्थानों में 1330 नई सीटें जोड़ी गई हैं। ये अतिरिक्त सीटें गुरू गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी के काॅलेजों में उपलब्ध होंगी। इसमें बीटेक में 630, बीवाॅक में 20, बीबीए में 120, बीकाॅम आॅनर्स में 220, बीए अर्थशास्त्र में 120, बीसीए में 90, एमबीए में 60, एमएमसी योगा में 15 और एमवाॅक में 55 सीटें शामिल हैं। इससे दिल्ली के बच्चों को उच्च शिक्षा के नए अवसर मिलेंगे।
श्री सिसोदिया ने कहा कि 1330 सीटों का बढ़ना पांच-छह नए काॅलेज खोलने के बराबर है। सामान्यतः किसी नए काॅलेज में 200 से 300 नई सीटें होती हैं। इसलिए 1330 सीटें बढ़ने का मतलब यह है कि हमारे बच्चों को पांच छह नए काॅलेजों के समान अतिरिक्त सीटें उपलब्ध होंगी
श्री सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार का प्रयास है कि हर बच्चे को शिक्षा के समुचित अवसर मिलें। इसके लिए हम हर विकल्प की तलाश कर रहे हैं। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि ‘शिक्षित राष्ट्र, समर्थ राष्ट्र‘ का सपना साकार करने की दिशा में यह एक बड़ा कदम है।
*सत्र 2020-21 में गुरू गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी की सीटों का विवरण-*
बीटेक – कुल 7110 सीट (630 नई)
एमबीए – कुल 2470 सीट (60 नई)
बी.वॉक – कुल 770 सीट (20 नई)
बीबीए – कुल 7845 सीट (120 नई)
बी.कॉम (ऑनर्स) – कुल 2145 सीट (220 नई)
बीए (अर्थशास्त्र) – कुल 420 सीट (120 नई)
बीसीए – कुल 2625 सीट (90 नई)
एमएससी (योगा) – कुल 30 सीट (15 नई)
एम.वॉक – कुल 100 सीट (55 नई)

यह भी पढ़ें : रेलवे द्वारा माल परिवहन को आकर्षित करने के लिए कुछ और माल प्रोत्साहन योजनाओं की शुरुआत

यह भी पढ़ें : दिल्ली में केवल ‘ग्रीन’ पटाखों का उत्पादन, बिक्री और उपयोग करने की अनुमति – गोपाल राय

error: Content is protected !!