Banner Desh ki Aawaz 600x337 1

Mai Nari Hu: मैं नारी हूं……

मैं नारी हूं…….(Mai Nari Hu)

Aishwarya Chauhan
ऐश्वर्या चौहान, बैतूल मध्यप्रदेश

मैं नारी हूं……(Mai Nari Hu)
(हर उस स्त्री के लिए जो आवाज़ उठाने से डरती है।)
थोड़ी सी अजीब हूं मैं,
खामोशी को पढ़ना जानती हूं।
थोड़ी सी नादान भी हूं,
दर्द में भी मुस्कुराना जानती हूं।
हां, थोड़ी सी मूफट हूं मैं,
गलत को गलत बताना भी जानती हूं।
हां, थोड़ी बद्दिमाग भी हूं शायद,
सब को इज़्ज़त देना जानती हूं।
पर याद रखना,
थोड़ी भुलक्कड़ भी हूं मैं,
बदतमीजी होने पर मां काली बनना भी जानती हूं।
मैं…..नारी हूं, नासमझों कि अक्ल ठिकाने लगाना भी जानती हूं।

यह भी पढ़ें:Jindagi: जितना तुम्हें समझने की कोशिश की है ऐ जिंदगी, तुम उतनी ही उलझति गई हो

*हमें पूर्ण विश्वास है कि हमारे पाठक अपनी स्वरचित रचनाएँ ही इस काव्य कॉलम में प्रकाशित करने के लिए भेजते है।
अपनी रचना हमें ई-मेल करें writeus@deshkiaawaz.in

Advertisement
Hindi banner 02
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.