PM Modi

Indian space association: पीएम ने की भारतीय अंतरिक्ष संघ की शुरूआत, जानें क्या कहा

Indian space association: पीएम ने बताया कि अंतरिक्ष संघ में भारतीय व विदेशी कंपनियां शामिल हैं

नई दिल्ली, 11 अक्टूबरः Indian space association: पीएम ने आज इंडियन स्पेस एसोसिएशन की शुरूआत की। इस दौरान पीएम ने कहा कि भारत में स्पेस सेक्टर और स्पेस टेक्नोलॉजी को लेकर बड़े बदलाव हो रहे हैं। इंडियन स्पेस एसोसिएशन इन्हीं बदलावों की एक कड़ी है। इस्पा के गठन के लिए मैं सभी देशवासियों को बधाई देता हूं।

Indian space association: उन्होंने कहा कि इंडियन स्पेस एसोसिएशन के चार उद्देश्य हैं। इसमें पहला है, नवाचार के लिए प्राइवेट सेक्टर को स्वतंत्रता देना, दूसरा एक प्रवर्तक के रूप में सरकार की भूमिका सुनिश्चित करना, तीसरा युवाओं को भविष्य के लिए तैयार करना और चौथा स्पेस सेक्टर का विकास आम नागरिकों के साधन के रूप में करना।

क्या आपने यह पढ़ा…. SBI Offer: एसबीआई ग्राहकों के लिए अच्छी खबर, फ्री में मिलेंगे 2 लाख रुपये

Advertisement

पीएम ने आगे कहा कि हमारा उद्देश्य भारत को नवाचार का ग्लोबल सेंटर बनाना हैं। यह एक ऐसी रणनीति है जो भारत के टेक्नोलॉजीकल एक्सपर्टीज को आधार बनाएगी और वैश्विक विकास में बड़ी भूमिका निभाएगी। आत्मनिर्भर भारत सिर्फ एक अभियान नहीं हैं। यह एक बेहतर सोच और बेहतर योजना है, जिससे भारत के उद्यमियों और युवाओं के कौशल को बढ़ाया जा सके और भारत को मैन्यूफैक्चरिंग का पॉवरहाउस बनाया जा सके।

उन्होंने कहा कि हमारा स्पेस सेक्टर 130 करोड़ देशवासियों की प्रगति का एक बड़ा माध्यम हैं। यह क्षेत्र सामान्य मानव को बेहतर मैपिंग, इमेजिंग और कनेक्टिविटी की सुविधा पहुंचाएगा। यह संघ उद्यमियों के लिए शिपमेंट से लेकर डिलीवरी तक बेहतर स्पीड मुहैया कराएगा।

पीएमओ ने बताया कि भारतीय अंतरिक्ष संघ के संस्थापक सदस्यों में लार्सन एंड टुब्रो, नेल्को, वनवेब, भारती एयरटेल, मैपमाय इंडिया, वालचंदनगर इंडस्ट्रीज व अनंत टेक्नोलॉजी शामिल हैं। यह संघ अंतरिक्ष संबंधी नीतियों की हिमायत और सरकार व सरकार की एजेंसियों के बीच सामंजस्य स्थापित करेगा।

Advertisement
Whatsapp Join Banner Eng
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Copyright © 2021 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.