dreams

Pitru Paksha 2022: क्या आपके पितर की आत्मा को मिली है शांति! इन सपनों से लगाएं पता…

Pitru Paksha 2022: पितृ पक्ष के दौरान सपने में दिखाई दें पितर तो छिपा है बड़ा संकेत, जानें विस्तार से….

अहमदाबाद, 12 सितंबरः Pitru Paksha 2022: भारत में पितृ पक्ष शुरू हो चुके हैं। इस दौरान लोग श्राद्ध कर अपने पितरों को खुश करने की कोशिश करते हैं। जिससे उनके आशीर्वाद से जिंदगी अच्छी तरह कटे और किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। कुछ परिजन इतने करीबी होते हैं कि वह कई बार सपने में दिखाई देते हैं। खासकर पितृ पक्ष में पितरों के सपने में दिखने के अहम मायने होते हैं। ऐसे में पितरों का सपनों में आना कई तरह की वजहों की तरफ इशारा करते हैं। आइए जानें कि पितृ पक्ष के दौरान अगर पितर सपने में दिखाई दें तो इसका क्या मतलब हैं। जानिए….

मालूम हो कि पितृ पक्ष के दौरान किसी भी प्रकार का शुभ कार्य या पूजा-अनुष्ठान नहीं किया जाता है। ये 15 दिन पितरों को समर्पित होते हैं. इस दौरान श्राद्ध कर्म, दान, गरीबों को खाना खिलाने से पितरों की आत्माएं खुश होती हैं। इस दौरान मृतक परिजन सपने में दिखते हैं तो इसमें कई तरह के संकेत छिपे होते हैं।

करें यह उपाय

Advertisement

पितृ पक्ष में पितरों का सपने में दिखना विशेष प्रकार का संकेत होता है। इससे मालूम पड़ता है कि उनकी आत्मा को शांति मिली है या नहीं। उनको इस दौरान हमसे क्या अपेक्षा है। पितृ पक्ष के दौरान अगर परिजन सपने में बीमार या किसी भी तरह के कष्ट में दिख रहे हैं तो इसका मतलब है कि उनकी आत्मा को शांति नहीं मिली है। ऐसे में आपको तर्पण, श्राद्ध, दान करना चाहिए।

पितरों का खुश दिखाई देना

इस दौरान अगर पितर सपने में खुश और स्वस्थ दिखाई दें तो इसका मतलब है कि उनकी आत्मा को शांति मिल चुकी है। वह आराम से हैं और उनको किसी भी तरह की परेशानी नहीं है।

Advertisement

जीवित इंसान का सपने में दिखना

पितृ पक्ष के दौरान अगर कोई जीवित इंसान सपने में दिखाई दे तो इसका मतलब है कि उसकी उम्र काफी लंबी होने वाली है। 

(यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। देश की आवाज न्यूज इसकी स्पष्ट पुष्टि नहीं करता।)

Advertisement

क्या आपने यह पढ़ा….. Amit shah speech: 1350 किसानों को भंडारण के लिए गोदाम बनाने के लिए लोन दिया गयाः अमित शाह

Hindi banner 02
देश की आवाज़ की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.