IMG 20220503 WA0000

Akshaya tritiya 2022: अक्षय तृतीया का त्यौहार आज, जानें इस दिन का इतिहास और सोना खरीदने का समय

Akshaya tritiya 2022: अक्षय तृतीया को जप, दान या पुण्य जैसे कई अच्छे कामों के लिए भाग्यशाली माना जाता है

धर्म डेस्क, 03 मईः Akshaya tritiya 2022: हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का खास महत्व होता हैं। इस साल अक्षय तृतीया (Akshaya tritiya 2022) का त्यौहार आज यानी (3 मई को) मनाया जा रहा है। अक्षय तृतीया एक हिंदू और जैन वसंत त्यौहार हैं। इस दिन को कोई भी नई शुरुआत करने के लिए साल का सबसे शुभ दिन माना जाता हैं। अक्षय तृतीया को आखातीज या अक्षय तीज के नाम से भी जाना जाता हैं।

अक्षय तृतीया (Akshaya tritiya 2022) को जप, दान या पुण्य जैसे कई अच्छे कामों के लिए भाग्यशाली माना जाता हैं। अक्षय शब्द का मतलब होता है कभी कम नहीं होगा। इसा मतलब ये है कि इस दिन किए जाने वाले कामों का फायदा कभी कम नहीं होगा। इसलिए इस दिन लोग शादी, नया निवेश या व्यापार भी शुरू करते हैं। अधिकतर लोग इस दिन गोल्ड निवेश भी करते हैं।

क्या आपने यह पढ़ा…….. Blood donation campaign by south metro city association of realtors: मध्य रेल, मुंबई पर साउथ मेट्रोसिटी एसोसिएशन ऑफ रियलटर्स द्वारा रक्तदान अभियान

Advertisement

जानें अक्षय तृतीया का इतिहास

ऐसा माना जाता है कि भगवान कृष्ण ने पांडवों को अक्षय पात्र दिया था। इस पात्र ने उनके निर्वासन के दौरान अंतहीन भोजन की आपूर्ति सुनिश्चित की थी। लोगों ने इस दिन को संपत्ति के बढ़ते रहने की उम्मीद के साथ शुभ मानना शुरू कर दिया। ऐसा भी कहा जाता है कि इस दिन कुबेर को धन का मालिक बनाया गया था।

अक्षय तृतीया (Akshaya tritiya 2022) मुहूर्त

Advertisement

अक्षय तृतीया मंगलवार, 3 मई, 2022 को
अक्षय तृतीया पूजा मुहूर्त- सुबह 05 बजकर 59 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 26 मिनट तक
अवधि- 06 घंटे 27 मिनट्स
तृतीया तिथि प्रारंभ- 3 मई, 2022 को सुबह 5 बजकर 18 मिनट से शुरू
तृतीया तिथि समाप्त- 4 मई, 2022 को सुबह 07 बजकर 32 मिनट पर खत्म

सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त

अक्षय तृतीया (Akshaya tritiya 2022) सोने की खरीदारी मंगलवार, 3 मई, 2022 को
अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने का समय- 3 मई 2022 सुबह 05 बजकर 59 मिनट से लेकर 4 मई 2022 सुबह 7 बजकर 58 मिनट तक

Advertisement

त्यौहार के लिए पूजा करने की विधि

नए कपड़े पहनकर अक्षय तृतीया की पूजा की जाती हैं। इस दिन भगवान गणेश, माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु को ज्यादा महत्व दिया जाता हैं। भगवान को पीले रंग के कपड़े पहनाकर उनकी पूजा की जाती हैं। दूध, चावल समेत चने दाल का प्रसाद पूजा में देवी-देवताओं को चढ़ाने के बाद परिवार में बांटा जाता हैं।

Hindi banner 02
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Advertisement
Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.