एक नये सफर पर जाना है जहाँ खुद को भूल जाना है।

Dilip Bachani
डॉ दिलीप बच्चानी
पाली मारवाड़,राजस्थान।

एक नये सफर पर जाना है
जहाँ खुद को भूल जाना है|

बस उसी मे दिल लगाना है
बस उसी मे डूब जाना है |

तेरी रहमत से है जहाँ रोशन
तेरी बारीश मे भीग जाना है |

कयू न हँसू उदास कयू मैं रहूं
मुझे पता है उसने फिर हँसाना है |

मैं भी उसी का एक कतरा हूँ
उस मे ही फिर समानां है |

~~डॉ दिलीप बच्चानी~~

*हमें पूर्ण विश्वास है कि हमारे पाठक अपनी स्वरचित रचनाएँ ही इस काव्य कॉलम में प्रकाशित करने के लिए भेजते है। अपनी रचना हमें ई-मेल करें writeus@deshkiaawaz.in

Banner Still Hindi