Gujarat

Abandoned child: पुलिस समेत सबका दुलारा शिवांश मामले में बड़ा खुलासा- मां की हो चुकी है हत्या

Abandoned child: शव को सूटकेस में पैक कर सचिन हुआ था फरार

गांधीनगर, 10 अक्टूबरः Abandoned child: गांधीनगर के पेथापुर के पास से मिले शिवांश नामक बच्चे के पिता के मिलने के बाद उसकी माता के बारे में पुलिस छानबीन में एक बड़ा खुलासा हुआ हैं। पुलिस ने बताया कि शिवांश की माता हिना उर्फ मेहंदी हैं और प्रेमी सचिन दीक्षित ने ही वड़ोदरा में उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने बताया कि सचिन दीक्षित और हिना उर्फ मेहंदी दोनों वड़ोदरा के बापोत क्षेत्र के एक फ्लैट में रहते थे।

Abandoned child: दो दिन पहले सचिन ने हिना से कहा था कि वह अपने माता-पिता के साथ अपने गांव जाना चाहता हैं। यह बात सुनकर हिना गुस्सा हो गई। उसने गांव जाने के लिए मना कर दिया और उसके साथ रहने की जिद्द की। इस बात को लेकर दोनों के बीच झगड़ा हुआ। इस दौरान आवेश में आकर सचिन ने हिना का गला दबाकर हत्या कर दी।

शव को सूटकेस में पैक कर उसे रसोई में रख दिया। इसके बाद शिवांश को लेकर अहमदाबाद आ गया। गुजरात के गांधीनगर में उसने शिवांश को बीती रात एक गौशाला के बाहर छोड़कर अपने परिवार के साथ गांव जाने के लिए निकल गया था।

Advertisement

क्या आपने यह पढ़ा…. Super dancer chapter 4 winner: सुपर डांसर चैप्टर 4 की विनर बनी यह क्यूट बच्ची, मिले इतने लाख रूपये

जानकारी के मुताबिक शिवांश के मिलने के बाद पुलिस ने उसके परिजनों का पता लगाने के लिए जगह-जगह छानबीन की। देर शाम पुलिस ने शिवांश के पिता सचिन दीक्षित का पता लगाया। पुलिस ने उसे कोटा से दबोच लिया। सचिन दीक्षित गांधीनगर के सेक्टर 26 में अपनी पत्नी और माता पिता के साथ रहता हैं।

हिना अहमदाबाद में एक शोरूम में नौकरी करती थी। इस दौरान सचिन की उसके साथ मुलाकात हुई थी। बाद में दोनों में प्रेम हो गया। वर्ष 2019 में दोनों ने लिव-इन में रहना शुरू किया था। 2020 में शिवांश का जन्म हुआ। इसके बाद सचिन की जून महीने में वड़ोदरा में बदली हुई। जिसके बाद दोनों वड़ोदरा में रहने चले गए थे। सचिन ने वड़ोदरा के बापोत क्षेत्र में एक फ्लैट किराये पर लिया था।

Advertisement

पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि सचिन दीक्षित हफ्ते में सोमवार से शुक्रवार तक वड़ोदरा में रहता था। इसके बाद वीकेंड में गांधीनगर स्थित अपने माता-पिता और पत्नी के साथ रहने आता था।

Whatsapp Join Banner Eng
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Copyright © 2021 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.