Ahmedabad SOG Crime Branch

5 people arrested with fake notes: यूटूब में देखकर जाली नोट बना रहे पांच युवकों को एसओजी क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार

5 people arrested with fake notes: आरोपियों के पास से पुलिस ने 2,26,600 की जाली नोट जप्त की है

अहमदाबाद, 29 सितंबरः 5 people arrested with fake notes: अहमदाबाद SOG क्राइम ब्रांच की टीम ने जाली नोटों के कारोबार का खुलासा किया है। पुलिस ने जाली नोटो के साथ पांच शख्सों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से पुलिस ने 2,26,600 की जाली नोट जप्त की है। पुलिस पुछताछ में सामने आया है कि यूटूब में देखकर आरोपियों ने जाली नोट बनाना सीखा था। त्यौहारों के सीजन में आरोपियों ने बाजार में जाली नोटो की सप्लाई भी की है।

5 people arrested with fake notes: SOG क्राइम ब्रांच के PI ए.डी.परमार के नेतृत्व में PSI पी.के.भूत, पुलिस कांस्टेबल लक्ष्मण सिंह राणा, पुलिस कांस्टेबल केतन विनुभाई परमार, पुलिस कांस्टेबल निकुंज जयकिशन चक्रवर्ती और पुलिस कांस्टेबल गिरीश जयसंगभाई चौधरी सहित की टीम ने साबरमती में से आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

5 people arrested with fake notes: आरोपियों की पहचान पराग उर्फ पको नरेशभाई वाणीया (25) (निवासी साबरमती), हरेश उर्फ सलमान जोइताराम डाभाणी (32) (निवासी बेहरामपुरा), विजय डामराभाई डाभाणी (27), निवासी चांदखेडा), किरण सवजीभाी सोलंकी (21) ( निवासी नारोल), दिव्यांग उर्फ आर्यन रामाभाई डाभाणी (22), (निवासी नारोल) के रुप में हुई है।

Advertisement

क्या आपने यह पढ़ा… Vasanta college for women: वसंता कॉलेज फॉर वोमेन में सांगीतिक व्याख्यान

SOG क्राइम ब्रांच के DCP मुकेश पटेल ने बताया कि जाली नोट छापने का मुख्य सूत्रधार पराग उर्फ पको नरेश वाणीया है। यह पहले आरटीओ में केशियर के तौर पर नौकरी करता था, लेकिन कोरोना काल में नौकरी चली जाने के बाद उसने अपने साथियों के साथ मिलकर जाली नोट छापने का कारोबार शुरु किया। आरोपियों के पास से 2 लाख से अधिक जाली रुपये बरामद किये गये है।

पुछताछ में सामने आया है कि आरोपियों रक्षाबंधन सहित के त्यौहारों में जाली नोटो को बाजार में चलाया है। DCP मुकेश पटेल ने बताया कि मुख्य सूत्रधार पराग ने यूटूब पर देखकर जाली नोट बनाना सीखा है। आरोपियों में एक बीएससी तक की पढ़ाई कर चुका है। आरोपियों के खिलाफ आगे की कार्रवाई की जा रही है।

Advertisement
Whatsapp Join Banner Eng
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.