Banner Desh ki Aawaz 600x337 1

Child pornography case: यहां पोर्न वीडियो देखना और उसे भेजना छात्र को पड़ा महंगा, आप भी हो जाएं सतर्क

Child pornography case: अजमेर की रामगंज थाना पुलिस ने सोशल मीडिया पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी अपलोड करने के मामले में एक आरोपी को अपनी हिरासत में ले लिया

अजमेर, 12 मईः Child pornography case: क्या आप भी सोशल मीडिया व अन्य प्लेटफॉर्म के जरिए पोर्न वीडियो देख रहे हैं और उन्हें विभिन्न माध्यम से भेजने का प्रयत्न कर रहे हैं तो यह खबर आपके लिए काफी महत्वपूर्ण हैं। दरअसल पुलिस व साइबर सेल उन सभी लोगों पर नजर बनाए हुई है जो चाइल्ड पोर्नोग्राफी को वेबसाइड से डाउनलोड कर अन्य लोगों को भेज रहे हैं। उन लोगों पर अब आईटी के तहत नजर बनाए हुए कार्यवाही की जा रही हैं।

इसी कड़ी में अजमेर की रामगंज थाना पुलिस ने सोशल मीडिया पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी अपलोड करने के मामले में एक आरोपी को अपनी हिरासत में ले लिया है, जिससे पूछताछ की जा रही हैं। आरोपी रामगंज क्षेत्र का ही रहने वाला है, जो वर्तमान में पढ़ाई कर रहा हैं। आरोपी हेमराज ने वेबसाइड से पोर्न वीडियो डाउनलोड कर एक महिला को भेजा था, जिसकी शिकायत आईटीएसएसओ जी द्वारा थाने में दर्ज कराई गई और इसी मामले में रामगंज थाना पुलिस द्वारा इस कार्यवाही को अंजाम दिया गया।

क्या आपने यह पढ़ा…… 67th Rail week celebrations by Ahmedabad division: अहमदाबाद मंडल द्वारा 67वाँ ”रेल सप्ताह” समारोह उत्साह पूर्वक मनाया गया

Advertisement

Child pornography case: मामले की जानकारी देते हुए प्रशिक्षु आईपीएस सुजीत शंकर ने कहा कि एनसीआर के माध्यम से एटीएस एसओजी थाने में अश्लील वीडियो ग्राफी वायरल करने की शिकायत दर्ज कराई थी। यह शिकायत अप्रैल 2022 में दर्ज कराई गई, जिसमें हेमराज नामक स्टूडेंट का नाम सामने आया। इस मामले में हेमराज द्वारा दिसंबर 2020 में इंस्टाग्राम पर एक महिला को अश्लील वीडियो भेजा गया। इस मामले की शिकायत मिलने के बाद एटीएस कैसे जी ने रामगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

इस मामले में पुलिस ने जांच-पड़ताल करते हुए सोशल मीडिया व अन्य माध्यम से युवक की पहचान की। युवक की पहचान हेमराज के नाम से हुई, जिसके नंबर व अन्य माध्यम से जानकारी जुटाई गई तो उसमें वह अश्लील वीडियो भी मिले हैं। आरपीसी टेक्निकल टीम द्वारा युवक से पूछताछ की जा रही हैं, जिससे कि मामले में अग्रिम अनुसंधान किया जा सके। आरोपी को न्यायालय में पेश किया जाएगा और मामले में न्यायालय के आदेश पर अग्रिम अनुसंधान किया जाएगा।

Hindi banner 02
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Advertisement
Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.