Banner DKA 600x337 1

Ishq: “इश्क का बुखार उतार के जा रहे हैं!”

Ishq: !!इश्क!!

Jay kumar singh
जय कुमार सिंह
असम

रास्तों पर भटक जाना लाजमी है मगर।
सर मंजिलें कर भटकना कोई हमसे सीखे।।

इस उम्र में इश्क की पीड़ा वाकई लाजवाब है।
दर्द के साथ इश्क और इश्क के साथ दर्द बेहिसाब है।।

हर एहसास दिल में ना दबा देना तुम।
कभी होठों से जरा मुस्कुरा भी देना तुम।।

Advertisement

घबराना मत गर हो इश्क बुखार तो तुम।
आंखों ही आंखों में मुस्कुरा देना तुम।।

वे देखकर मुझे, मुझसे नजरें छुपा कर जा रहे हैं।
हम पर बिजली गिरा के, व खुब मुस्कुरा कर जा रहे हैं।।

वो लूट कर मेरा जहां जा रहे हैं।
इल्जाम लगाऊं मैं कैसे उन पर।।

Advertisement

बातें, वादे, यादें जो करते थे मोहब्बत के मुलाकातें।
वो आज नजरें चुरा के व इश्क का बुखार उतार के जा रहे हैं।।

क्या आपने यह पढ़ा…. Karwa chauth 2022: सुहागिनों का महापर्व करवा चौथ आज, जानें चौथ पूजा सहित आपके शहर में चांद निकलने का समय…

Hindi banner 02
देश की आवाज़ की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Advertisement
Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.