sneha dubey secretary

Sneha Dubey: जानिए कौन हैं इमरान खान की बोलती बंद करने वाली स्नेहा दुबे

Sneha Dubey: जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग है और रहेगा: स्नेहा दुबे

नई दिल्ली, 25 सितंबरः Sneha Dubey: संयुक्त राष्ट्र महासभा में हर बार की तरह इस बार भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर का राज अलापा हैं। लेकिन भारत ने हर बार की तरह इस बार भी इमरान खान को करार जवाब देकर उनकी बोलती बंद कर दी हैं। इस बार भारत की ओर से जवाब देने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे (Sneha Dubey) ने बड़े प्रभावी ढंग से उन्हें जवाब दिया।

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग है और रहेगा। इनमें वे क्षेत्र भी हैं जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे में हैं। हम पाकिस्तान से उसके अवैध कब्जे वाले सभी क्षेत्रों को खाली करने का आह्वान करते हैं। इस जवाब के बाद सोशियल मीडिया पर #Sneha Dube ट्रेंड होने लगा। ट्वीटर से लेकर फेसबुक पर लोग इस महिला अधिकारी के बारे में सर्च करने लगें। आइए जानें स्नेहा दुबे इस मुकाम तक कैसे पहुंची।

इमरान खान की बोलती बंद करनेवाली स्नेहा (Sneha Dubey) ने पहले प्रयास में ही यूपीएससी में सफलता प्राप्त की थी। स्नेहा 2012 बैच की महिला अधिकारी हैं। आईएफएस बनने के बाद उनकी नियुक्ति विदेश मंत्रालय में हुई। 2014 में भारतीय दूतावास मैड्रिड में उनकी नियुक्ति हुई। कुछ साल बाद उन्हें संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव के रूप में नियुक्त किया गया।

Advertisement

क्या आपने यह पढ़ा… Anti raging programme for awareness: रैगिंग के खिलाफ जागरूकता हेतु वसंता कॉलेज फॉर वोमेन वसंत कॉलेज फॉर वोमेन में आयोजित हुआ व्याख्यान

स्नेहा दुबे पहले से ही अंतर्राष्ट्रीय मामलों में बहुत रूचि रखती थी। जिसके चलते उन्होंने भारतीय विदेश सेवा में जाने का फैसला लिया। स्नेहा ने जेएनयू से एमए और एमफिल किया हैं। उनकी शुरूआती शिक्षा गोवा में हुई। इसके बाद उन्होंने पुणे के फर्ग्युसन कॉलेज से स्नातक किया।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने भारत के आंतरिक मामलों को दुनिया के मंच पर लाने और झूठ फैलाकर प्रतिष्ठित मंच की छवि खराब करने की कोशिश की हैं। उन्होंने कहा कि हमनें उनके इस प्रयास के जवाब में राइट टू रिप्लाई का इस्तेमाल किया। स्नेहा ने आगे कहा कि इस तरह के बयान और झूठ के लिए वो हमारी सामूहिक अवमानना और सहानुभूति के पात्र हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ के मंच का पाकिस्तान ने गलत इस्तेमाल किया हैं।

Advertisement
Whatsapp Join Banner Eng
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Copyright © 2021 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.