PM modi Gorakhpur AIIMS innogration

PM Modi in gorakhpur: पीएम ने गोरखपुर को दिया 10 हजार करोड़ का तोहफा, जानें क्या कहा

PM Modi in gorakhpur: पीएम मोदी ने गोरखपुर फर्टिलाइजर प्लांट भी राष्ट्र को समर्पित किया

नई दिल्ली, 07 दिसंबरः PM Modi in gorakhpur: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गोरखपुर को करीब 10 हजार करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं का तोहफा दिया। पीएम मोदी ने गोरखपुर फर्टिलाइजर प्लांट भी राष्ट्र को समर्पित किया। उन्होंने इस प्लांट की आधारशिला 22 जुलाई 2016 को रखी थी। 30 साल से ज्यादा समय तक बंद रहने के बाद इसे फिर से पुराने रूप में लाया गया हैं। करीब 8,600 करोड़ रुपये की लागत से इसका निर्माण किया गया हैं।

PM Modi in gorakhpur: इस दौरान उन्होंने कहा कि धर्म और क्रांति की नगरी गोरखपुर के लोगों को प्रणाम करता हूं। आप सब फर्टिलाइजर कारखाना और एम्स के लिए बहुत दिन से इंतजार कर रहे थे। आज वो दिन आ गया है। आप सभी को बहुत-बहुत बधाई। ये आपका प्यार हमें आपके लिए दिन-रात काम करने की प्रेरणा देता हैं। पांच साल पहले मैं यहां एम्स और खाद कारखाने का शिलान्यास करने आया था। आज साथ में दोनों का लोकार्पण करने का सौभाग्य मिला हैं। यूपी के लोगों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

PM Modi in gorakhpur: उन्होंने कहा कि जब नया भारत कुछ ठान लेता है तो इसके लिए कुछ भी कठिन नहीं है। जब आपने 2014 में मुझे सेवा का मौका दिया तो कई खाद कारखाने बंद पड़े थे। खाद का विदेशों से आयात लगातार बढ़ता जा रहा था। जो खाद उपलब्ध भी थी उसका खेती के अलावा दूसरे कामों में गुपचुप रुप से इस्तेमाल होता था। खाद के लिए किसान को लाठी-गोली खानी पड़ती थी। हमने खाद की कालाबाजारी रोकने के लिए 100 प्रतिशत यूरिया की नीम कोटिंग करवाई।

क्या आपने यह पढ़ा…. Nad Yoga programe in VCW: बसंत महिला महाविद्यालय में नाद साधना ध्यान योग पर विशेष कार्यक्रम

पीएम ने कहा कि फर्टिलाइजर कारखाने के शिलान्यास के समय मैंने कहा था कि गोरखपुर विकास का केंद्र बनेगा। आज ये सच होता दिख रहा हैं। इससे पूर्वांचल में रोजगार और स्वरोजगार के अवसर पैदा होंगे। कई नए बिजनेस शुरू होंगे। ट्रांसपोर्टेशन और सर्विस सेक्टर को बढ़ावा मिलेगा। खाद के मामले में भारत आत्मनिर्भर बनेगा। कोरोना के समय हमने जाना कि खाद के मामले में आत्मनिर्भरता क्यों जरूरी है। तब विदेश से आयात नहीं हो रहा था।

Advertisement

पीएम ने आगे कहा कि जहां दुनिया में यूरिया 60 से 65 रुपये प्रति किलो में बिक रहा है। वहीं भारत में हमने किसानों को खाद 10 से 12 गुना सस्ती देने का प्रयास किया हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में बन रहे 5 फर्टिलाजर प्लांट शुरू होने के बाद 60 लाख टन अतिरिक्त यूरिया देेश को मिलेगा। यानी भारत को हजारों करोड़ रुपये विदेश नहीं भेजने होंगे। भारत का पैसा भारत में ही लगेगा। पहले की 2 सरकारों ने 10 साल में जितना भुगतान गन्ना किसानों को किया था लगभग उतना सीएम योगी की सरकार ने अपने साढ़े 4 साल में किया हैं।

Whatsapp Join Banner Eng
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Advertisement
Copyright © 2021 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.