Swami Vishokananda Lecture

Swami Vishokananda Lecture: बीएचयू के वैदिक विज्ञान केंद्र में स्वामी विशोकानंद का हुआ व्याख्यान

Swami Vishokananda Lecture: बीकानेर के निर्वाण पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर राजगुरु स्वामी विशोकानन्द भारती ने वेदों पर दिया ओजस्वी व्याख्यान

रिपोर्टः डॉ राम शंकर सिंह
वाराणसी, 12 फरवरीः
Swami Vishokananda Lecture: बीएचयू के वैदिक विज्ञान केंद्र में गोविंदमठ एवं बीकानेर से पधारे निर्वाण पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्‍वर राजगुरु बीकानेर स्वामी विशोकानन्द भारती महाराज ने वैदिक विज्ञान केंद्र के अतिथि शिक्षकों और छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि, हमें बचपन से डार्विन और मैकाले को पढ़ाया गया है जो सर्वथा अधूरा ज्ञान है।

डार्विन ने कहा कि, मनुष्य बंदर की सन्तान है और उसे पहले पूँछ थी जो उपयोग न होने के कारण समाप्त हो गयी। उन्होंने कहा कि, यह सर्वथा गलत है और वेदों में इस प्रकार का कोई जिक्र नहीं है। मैंने इस संदर्भ में एक चिकित्सक से कहा कि, गर्भ में परीक्षण किया जाए कि बालक को पूँछ होती है या नहीं।

दूसरा हमें पढ़ाया गया है कि हमें बिजली का, धातुओं का और अन्न का ज्ञान नहीं था, जो पूरी तरह से गलत है। डार्विन द्वारा कही गयी इन सभी बातों का जबाब वेदों में मिलता है। वेद परमात्मा के द्वारा प्रतिपादित स्वरूप है। परमात्मा के द्वारा सनातन धर्म प्रतिपादित है इसलिए यह सनातन है।

Advertisement

आपने कहा कि वेद का अर्थ होता है ज्ञान। वैदिक सनातन धर्म इसलिए महान है क्योंकि परमात्मा ने इसका प्रतिपादन स्वयं किया है, जिस प्रकार से परमात्मा सनातन है उसी प्रकार से वेद भी सनातन है। उन्होंने कहा कि चारों वेदों के अतिरिक्त प्रकृति वेद का जिक्र हमारे वेदों में है।

नाशा और इसरो ने इस बात को सिद्ध कर दिया है कि ऋग्वेद सबसे प्राचीन है। उन्होंने कहा कि मैकाले की शिक्षा और मैक्समूलर द्वारा जानबूझकर वेदों की गलत व्याख्या की गयी, जिससे हमारी शिक्षा और संस्कृति दोनों प्रभावित हुई। अब हम चेत गये है और अपने वेद में बताये गये तथ्यां को समाज में लाने का प्रयास कर रहे हैं।

प्रारंभ में महामण्डलेश्वर एवं अतिथियों का स्वागत केन्द्र के समन्वयक प्रो.उपेन्द्र कुमार त्रिपाठी ने किया। इस अवसर पर महामण्डलेश्वर स्वामी विशोकानन्द को अंगवस्त्रम्, स्मृति चिह्न और महामना की प्रतिमा प्रदान कर अभिनन्दन किया गया। इस अवसर पर पर्यावरण विद डॉ दया शंकर त्रिपाठी, छात्र-छात्राएँ एवं कर्मचारीगण उपस्थित रहें।

क्या आपने यह पढ़ा… Varanasi DEO Meeting With Zonal Magistrate: वाराणसी के जिला निर्वाचन अधिकारी ने की जोनल मजिस्ट्रेट संग समीक्षा बैठक

Hindi banner 02
देश की आवाज की खबरें फेसबुक पर पाने के लिए फेसबुक पेज को लाइक करें