Civil hospital ahmedabad e1655883969375

Administration asked doctors to vacate hospital: अहमदाबाद सिविल अस्पताल के हड़ताली डॉक्टरों को होस्टल खाली करने का आदेश, जानें क्या है मांग

Administration asked doctors to vacate hospital: प्रशासन ने 900 सीनियर और जूनियर डॉक्टरों को होस्टल खाली करने का नोटिस दिया

अहमदाबाद, 22 जूनः Administration asked doctors to vacate hospital: अहमदाबाद सिविल अस्पताल के हड़ताल पर उतरे डॉक्टरों को लेकर प्रशासन ने सख्त रुख अपनाया हैं। दरअसल प्रशासन ने हड़ताल पर उतरे डॉक्टरों को नोटिस देते हुए 24 घंटे में होस्टल खाली करने को कहा है। प्रशासन ने 900 सीनियर और जूनियर डॉक्टरों को होस्टल खाली करने का नोटिस दिया है। हड़ताल पर उतरे डॉक्टरों के कारण 50 प्रतिशत सर्जरी रद्द हो गई है। एक वर्ष के बोन्ड को रेजिडेंट के तौर पर मानने की डॉक्टर मांग है।

Administration asked doctors to vacate hospital: मिली जानकारी के अनुसार अहमदाबाद सिविस अस्पताल के करीब 1100 डॉक्टर हड़ताल पर उतरे है। हालांकि दूसरी ओर रेजिडेंट डॉक्टर हड़ताल पर उतरने से मरीजों हेरान-परेशान हो गए है। सरकार और चिकित्सों की लड़ाई से मरीज परेशान हो रहे है। क्योंकि एक ओर सरकार मांग स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है, वहीं डॉक्टर भी अपनी हड़ताल खत्म करने के तैयार नहीं है।

क्या आपने यह पढ़ा… Maharashtra political crisis: शिवसेना के बागी विधायकों संग असम पहुंचे एकनाथ शिंदे, पढ़ें पूरी खबर

Advertisement

उल्लेखनीय है कि हाल ही में वडोदरा सयाजी होस्पिटल में 6 दिन से हड़ताल पर उतरे जूनियर और इन्टर्न डॉक्टरों के विरुद्ध डॉक्टरी शिक्षा और संशोधन विभाग के अतिरिक्त मेडिकल कालेज के डीन ने कार्यवाही करने का आदेश दिया है। हड़ताल पर रहे डॉक्टर और इन्टर्न डॉक्टर के विरुद्ध कार्यवाही करने का आदेश दिया है। इसी के साथ हड़ताल करने वाले डॉक्टरों के तत्काल असर से होस्टल खाली करने का भी आदेश दिया है।

Administration asked doctors to vacate hospital: आपकों बता दें कि, राज्य के रेजिडेंट डॉक्टर बोन्ड की मांग को लेकर हड़ताल पर उतरे है। ऐसे में हाल ही में बोन्ड के मुद्दे पर स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल ने पाटण में बयान देते हुए उनकी मांग को अयोग्य बताया था। सरकार जूनियर डॉक्टरों की मांग से सहमत नहीं है। लेकिन यदि हड़ताल खत्म नहीं हुई तो सख्त कदम उठाया जाएगा।

Hindi banner 02
देश की आवाज़ की तमाम खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें.

Advertisement
Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.