Banner Desh ki Aawaz 600x337 1

Jee raha hu: जी रहा हूं अब खुद को भुलाकर…!

Rajesh rajawat
राजेश राजावत”ओजस”
दतिया, मध्य प्रदेश

Jee raha hu: हर रोज डसती है मुझको तन्हाई
बैरन -सी लगने लगी यारा जुदाई
दर्द -ए -दास्तां नहीं जाती सुनाई
क्यों तुम्हें कुछ नही देता दिखाई
अपने ही जख्मों पे नमक लगाकर
जी रहा हूं अब खुद को भुलाकर…!

ना जाने का तुमने इरादा किया था
एक रोज मुझसे ये वादा किया था
अब क्यों खफा से लगने लगे हो
प्यार मुझे मुझसे ज्यादा किया था
तेरी यादें अपने सीने पर सुलाकर
जी रहा हूं अब खुद को भुलाकर…!

नींद आती नहीं है आजकल रात में
ना रही अब कशिश किसी बात में
तेरे चेहरे की सुर्खियां नज़र आती हैं
दर्द मिला हो जैसे उसको सौगात में
थक गया हूं तुमको पास बुलाकर
जी रहा हूं अब खुद को भुलाकर…!

Advertisement

आग दिल में लगी गली झूमने लगी
मोहब्बत आकार दामन चूमने लगी
कैद थी जो कभी अपनी ही कैद में
आरजूयें गालियां चौबारे घूमने लगी
चूमकर के माथा गले से लगाकर
जी रहा हूं अब खुद को भुलाकर…!

अरमान दिल के खाक में मिल गए
सुलगे, जले, फिर राख में मिल गए
ख्वाईशें दिल की मचलती रह गई
गीत ओजस के भी राग में मिल गए
देखूंगा किसी रोज नज़रें मिलाकर
अभी जी रहा हूं खुद को भुलाकर…!

यह भी पढ़ें:-Sawan maas: आ गया है सावन मास…!

Advertisement
Hindi banner 02

Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.