IMG 20220623 WA0038 e1655976074123

IOC launches solar stove surya nutan: आईओसी ने लॉन्च किया सौर चूल्हा सूर्य नूतन, जानें किस तरह करेगा काम

  • पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी के आवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में इस सौर चूल्‍हे पर पका खाना परोसा गया

IOC launches solar stove surya nutan: सूर्य नूतन की कीमत 18,000 रुपये से 30,000 रुपये के बीच होगी, इस पर सरकार सब्सिडी भी देगी

नई दिल्ली, 23 जूनः IOC launches solar stove surya nutan: घरेलू रसाई गैस सिलेंडर की कीमत अब एक हजार रुपये से ऊपर जा चुकी है। कीमतों में बढ़ोतरी से हर कोई परेशान है ऐसे में लोगों के लिए राहत देने वाली एक खबर सामने आई है। दरअसल भारत की प्रमुख तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन ने एक ऐसा चूल्हा पेश किया है। जिसे रसोई घर में ही रख कर ही तीन टाइम खा फ्री में खाना पकाया जा सकता है।

सौर ऊर्जा से चलने वाले इस चूल्हे को रसोई घर में रखकर उपयोग में लाया जा सकता है। जिसे रिचार्ज किया जा सकता है। इस चूल्‍हे की खास बात यह है कि इसे रात में भी प्रयोग किया जा सकता है। यह सौर चूल्हा घर के बाहर लगे पैनल से सोलर एनर्जी स्टोर कर लेता है, जिससे बिना धूप में बैठे दिन के तीन वक्त फ्री में खाना पकाया जा सकता है।

पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी के आवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में इस सौर चूल्‍हे पर पका खाना परोसा गया। पुरी ने कहा कि इस चूल्हे को खरीदने की लागत के अलावा रख-रखाव पर कोई खर्च नहीं है और इसे पारंपरिक ईंधन के विकल्प के रूप में देखा जा रहा है। इस सौर चूल्हे को फरीदाबाद में आईओसी के अनुसंधान और विकास विभाग ने विकसित किया है।

Advertisement

क्या आपने यह पढ़ा… School entrance festival: गुजरात में शाला प्रवेशोत्सव कार्यक्रम की हुई शुरूआत, सीएम ने बच्चों को दी कीट

सब्सिडी के बाद 10 से 12 हजार में मिल सकेगा चुल्हा

आईओसी ने अभी सूर्य नूतन का आरंभिक मॉडल पेश किया गया है। कमर्शियल मॉडल अभी लॉन्‍च होना बाकी है। फिलहाल देशभर में 60 जगहों पर इसकी टेस्टिंग की गई है। आईओसी के अनुसार सूर्य नूतन की कीमत 18,000 रुपये से 30,000 रुपये के बीच होगी। इस पर सरकार सब्सिडी भी देगी। सब्सिडी के बाद इसकी कीमत 10,000 से 12,000 रुपये के बीच हो सकती है।

Advertisement

ऐसे करता है काम

सूर्य नूतन चूल्‍हे को धूप में रखने की जरूरत नहीं है. यह चूल्‍हा छत पर लगी सोलर प्‍लेट से एक केबल के जरिए जुड़ा रहता है। सोलर प्लेट से जो ऊर्जा पैदा होती है, वह केबल के जरिए चूल्हे तक आती है. इससे सूर्य नूतन चलता है। सोलर प्लेट सौर ऊर्जा को पहले थर्मल बैटरी में स्टोर करती है। इसी कारण सूर्य नूतन से रात में भी खाना बनाया जा सकता है।

Hindi banner 02

Advertisement
Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.