Tree cuting

Nature: हमारे जीवन की डोर हमारे पास नहीं, रोज एक पेड़ है कटता कहीं

Nature: !!प्रकृति!!

Anuradha Rani
लेखिका- अनुराधा रानी
श्रीरामपुर, पश्चिम बंगाल

Nature: मैं बेघर हूं, मनुष्य से मेरा नाता खूंटे से बंधी
उस रस्सी की तरह है जो हर दिन कमज़ोर हो रहा
हमारे जीवन की डोर हमारे पास नहीं
रोज़ एक पेड़ है कटता कहीं

कुछ बेजान पड़े है कुछ अधमरे भी है
नदियां रो-रोकर कर सुख गई
चिड़ियां घरों से बेघर हुई
फूलों ने मुस्कुराना छोड़ दिया

कुम्हार ने मिट्टी से नाता तोड़ लिया
बारिश खफा-खफा सी है
हवाओं ने रुख मोड़ लिया
नहीं दिखते पहाड़,
ना शेर की दहाड़

Advertisement

ओस की बूंदे ढूंढते अपना सहारा
घूट रहा है दम
फैक्टरियों से दूषित नीला आसमान हमारा
मैं पीड़ा अपनी आख़िर किस से कहूं
मैं बेघर हूं

फसलों को प्यास लगी है
मयूर पंख फैलाए रूठी हुई है
सूखे पत्ते झड़ जाते हैं
आख़िरी सांस भी ना सुकून से ले पाते हैं
उस काल से इस काल तक मेरी व्यथा कैसे कहूं
मैं बेघर हूं

जिसने चांद तक पहुंचने का रास्ता बनाया
वो क्यों ना हमें बचा पाया
है गुरूर जिसे अपने होने का
उसने ही मुझे कब्र में दफनाया
मैं अपने वजूद की तलाश हर दिन करती हूं
मैं बेघर हूं

Advertisement

क्या आपने यह पढ़ा….. BJP election manifesto announced: भाजपा ने चुनावी घोषणापत्र का किया ऐलान, जानें क्या वादे किए…

Hindi banner 02
देश की आवाज़ की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Copyright © 2022 Desh Ki Aawaz. All rights reserved.