CBI delhi 1

CBI Busts Major Module: सीबीआई ने साइबर सक्षम अपराध के एक प्रमुख मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया

  • सीबीआई ने विदेशी नागरिकों को शिकार बनाने वाले साइबर सक्षम अपराध के एक प्रमुख मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया

CBI Busts Major Module: कई राज्यों में लगभग 24 स्थानों पर तलाशी ली एवं 2.2 करोड़ रु.(लगभग) की नकद राशि बरामद की

नई दिल्ली, 23 नवंबरः CBI Busts Major Module: सीबीआई ने कथित तौर पर विदेशी नागरिकों को भुगतान हेतु मजबूर करने वाले साइबर सक्षम अपराधों के एक प्रमुख मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया। सीबीआई ने इस अभियान के हिस्से के तौर पर एक मामले की जारी जांच में दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा एवं गुजरात सहित कई राज्यों में स्थित लगभग 24 स्थानों पर तलाशी ली, जिसके परिणामस्वरूप 2.2 करोड़ रु. (लगभग) की नकद राशि; विदेशी मुद्रा; क्रिप्टोकरेंसी वाले खाते; संपत्ति के दस्तावेज एवं अन्य आपत्तिजनक साक्ष्य बरामद किया।

सीबीआई ने 07.07.2022 को एक मामला दर्ज किया जिसमें भारत में स्थित कई कॉल सेंटरों ने संयुक्त राज्य अमेरिका के नागरिकों को शिकार बनाने वाली लाखों धोखाधड़ी वाले कॉल करने के लिए गुजरात स्थित वीओआइपी कंपनी की सेवाओं का उपयोग करने का आरोप है।

यह भी आरोप है कि इन साइबर-सक्षम अपराधों के पीछे के अपराधियों ने वीओआइपी कॉल के माध्यम से यू एस फेडरल ग्रांट डिपार्टमेंट, आईआरएस, एसएसए, सीआरए एवं एटीओ जैसी संस्थाओं का परनामधारण किया।

Advertisement

आगे यह आरोप है कि इस अपराध की कार्यप्रणाली में यू एस फेडरल डिपार्टमेंट या एजेंसियों के कर्मियों का परनाम धारण करके रोबो/ऑडियो कॉल करना शामिल है। इसके पश्चात शुल्क, जुर्माना या दंड की आड़ में पीड़ितों को धोखा देकर भुगतान के लिए मजबूर किया।

सीबीआई के ऑपरेशन चक्र के तहत अक्टूबर 2022 में जांच के शुरुआती चरण में 11 ऐसे कॉल सेंटरों/संस्थाओं की तलाशी ली गई। एफबीआई ने भी सीबीआई को यह सूचित किया कि इस मामले के आरोपियों को पहले ही अमेरिकी नागरिकों के विरुद्ध इसी तरह की धोखाधड़ी वाली गतिविधियों के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में अभियोग का सामना करना पड़ा था।

इससे पूर्व, एक अन्य आरोपी के विरुद्ध सीबीआई द्वारा आरोप पत्र दायर किया गया। आगे की जांच में गुजरात स्थित निजी कंपनी की सेवाओं द्वारा विदेशी नागरिकों के विरुद्ध बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी को अंजाम देने में एक निजी व्यक्ति, एक निजी कंपनी एवं उनके सहयोगियों की संलिप्तता का पता चला।

सीबीआई, अपने अंतर्राष्ट्रीय समकक्षों के सहयोग से भारत से संचालित किसी भी अंतर्राष्ट्रीय साइबर धोखाधड़ी नेटवर्क की पहचान करने एवं उसे नष्ट करने हेतु तत्परता से काम कर रही है। इस मामलें में जाँच जारी है।

क्या आपने यह पढ़ा… Viksit Bharat Sankalp Yatra: प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में ‘विकसित भारत संकल्प यात्रा’ का शुभारंभ

Hindi banner 02
देश की आवाज की खबरें फेसबुक पर पाने के लिए फेसबुक पेज को लाइक करें